HomeCORONAकोरोनोवायरस को मारने के लिए DRDO UV ब्लास्टर टॉवर

कोरोनोवायरस को मारने के लिए DRDO UV ब्लास्टर टॉवर

डिफेंस रिसर्च एंड डेवलपमेंट ऑर्गनाइजेशन (DRDO) DRDO ने कोरोनोवायरस को मारने के लिए UV ब्लास्टर टॉवर का निर्माण किया है, यह होटल, मॉल और हवाई अड्डों को रसायनों के बिना साफ करेगा। यूवी टावरों में 6 लैंप से निकलने वाली पराबैंगनी किरणें किसी भी सतह पर हवा और वायरस को नष्ट करती हैं

 

Image: https://pib.gov.in/
रोबोट चीन और दक्षिण कोरिया में यूवी प्रकाश का उपयोग करते हुए अस्पतालों, बसों और ट्रेनों की सफाई करता है, रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (DRDO) ने कोरोना से संक्रमण को रोकने के लिए एक यूवी ब्लास्टर टॉवर विकसित किया है। यह बिना रसायनों के होटल, मॉल और हवाई अड्डों जैसी जगहों को पवित्र करेगा। यूवी टॉवर में 6 लैंप हैं। प्रत्येक दीपक में 43 वोल्ट की एक अल्ट्रा वायलेट-सी शक्ति होती है। यहां से निकलने वाली किरणें हवा में और वस्तुओं पर कोरोनावायरस को नष्ट कर देती हैं।
Source: IANS
यूवी ब्लास्ट टॉवर को वाई-फाई की मदद से लैपटॉप और मोबाइल फोन से नियंत्रित किया जा सकता है। ये इलेक्ट्रॉनिक उपकरण बिना रसायनों के कंप्यूटर या प्रयोगशालाओं में रखे गैजेट्स को आसानी से संचारित कर सकते हैं। कोलंबिया के शोधकर्ताओं का दावा है कि 99 प्रतिशत वायरस विलुप्त हैं कोलंबिया विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने हाल ही में दावा किया था कि एक विशेष प्रकार की पराबैंगनी किरणें हवा में 99% कोरोनवीरस को मारती हैं।
 
वर्तमान में एक कमरे में वायरस की संख्या को कम करने का कोई सटीक तरीका नहीं है। अगर कमरे में कोई छींक दे तो क्या करें। ऐसी स्थिति में एक शक्तिशाली हथियार की जरूरत है अगर वायरस को हवा से नष्ट किया जाए।
 
चीन और दक्षिण कोरिया में यूवी लाइट का इस्तेमाल किया जा रहा है। कई स्थानों पर, रोबोट इन किरणों का उपयोग अस्पतालों, बसों और ट्रेनों को साफ करने के लिए कर रहे हैं।
2018 में जर्नल साइंटिफिक रिपोर्ट में प्रकाशित शोध में वायरस की सतह को आसानी से नष्ट कर देता है। डेविड ब्रेनर के अनुसार, यूवी प्रकाश 95 प्रतिशत से अधिक प्रभाव वाले कोरोना जैसे वायरस को नष्ट कर सकता है। शोध के अनुसार, वायरस की ऊपरी सतह की परत पतली होती है जिसे पराबैंगनी किरणों द्वारा आसानी से तोड़ा जा सकता है।

- Advertisement -

- Advertisement -