मणिकर्णिका के बाद कंगना का एक और बायोपिक, इस बाहुबली नेता का जीवन

0
52

कंगना रनौत का आज जन्मदिन है और इस मौके पर उन्हें एक बड़ा तोहफा मिला है। कंगना एक और बायोपिक में काम करने जा रही हैं जो जानी मानी राजनेता जयललिता के जीवन पर होगा।
इस फिल्म का नाम थलाईवी होगा जिसमें कंगना जे जयललिता का किरदार निभाएंगी। ये फिल्म तमिल और हिंदी में बनेगी और हिंदी में इसका नाम जया होगा। इस बायोपिक को बाहुबली और मणिकर्णिका द क्वीन ऑफ़ झाँसी के लेखक के वी विजयेन्द्र प्रसाद लिखेंगे l विष्णु वर्धन इंदुरी और शैलेश आर सिंह इस फिल्म को प्रोड्यूस करेंगे l 
इस फिल्म को ए एल विजय डायरेक्ट करेंगे, जिन्होंने इससे पहले तमिल में Deiva Thirumagal और  Thaandavam का निर्देशन किया था जिसमें विक्रम लीड रोल में थे l 

तीय राजनीति की बाहुबली नेता रहीं जयललिता

जयललिता जयराज यानि जे जयललिता, भारतीय राजनीति और खासकर दक्षिण की राजनीति का वो बड़ा नाम थीं, जो तमिलनाडु की मुख्यमंत्री होते हुए भी राष्ट्रीय राजनीति में बड़ी दखल रखती थीं। आल इंडिया अन्ना द्रविड़ मुनेत्र (अन्ना द्रमुक) ये ताकतवर नेता 1991 से 1996 , 2001 में, 2002 से 2006 तक और 2011 से 2014 तक तमिलनाडु की मुख्यमंत्री रहीं। राजनीति में आने से पहले जयललिता ने फिल्मों में बड़ा नाम बनाया था। 15 वर्ष की आयु में कन्नड फिल्मों में मुख्‍य अभिनेत्री की भूमिकाएं करने लगी थीं। इसके बाद वे तमिल फिल्मों में काम करने लगीं। 1965 से 1972 के दौर में उन्होंने अधिकतर फिल्में एम जी रामचंद्रन के साथ कीं।

कन्नड भाषा में उनकी पहली फिल्म ‘चिन्नाडा गोम्बे’ थी। वो साऊथ की पहली ऐसी अभिनेत्री थीं जिन्होंने स्कर्ट पहन कर रोल किया था। करीब 300 फिल्मों में काम करने वाली जयललिता ने हिंदी में इज्जत और मनमौजी में भी काम किया था। वो धर्मेन्द्र की हीरोइन बनीं। राजनीति में उनके समर्थक उन्हें अम्मा (मां) और कभी कभी पुरातची तलाईवी (क्रांतिकारी नेता) कहकर पुकारते थे। पांच दिसम्बर 2016 को राजनीति का ये सितारा अस्त हो गया।

कंगना रनौत को उनकी बेबाकी के लिए जाना जाता है l वो अपनी बात को बिना किसी से डरे कहती रही हैं और इसी कारण उनको लेकर अक्सर विवाद होते रहे हैं l अनजाने इमेल और प्यार की बात पर जब कंगना और रितिक रोशन के बीच मामला सार्वजानिक हुआ था तो कंगना खुलकर मैदान में आईं l 

LEAVE A REPLY