HomeBUSINESSक्या आप ज्यादा कैश ट्रांजैक्शन करते हैं, नियम जानिए...

क्या आप ज्यादा कैश ट्रांजैक्शन करते हैं, नियम जानिए वरना Income Tax वाले पीछे पड़ जाएंगे, पढ़िए बचने का तरीका

ITR Filing: ITR फाइल लास्ट डेट नजदीक आ रही हे, इस कारण इनकम टैक्स की चर्चा ज्यादा हो रही है। आप के लिए टैक्स के कुछ नियम जानना जरूरी है, नही तो आप मुश्किल मे पड़ सकते हो। जो लोग बड़ी मात्रा में कैश में लेनदेन करते हे उन्हें जानना जरूरी है क्योंकि आयकर विभाग (Income Tax Department) ने कैश लेनदेन की लिमिट कितनी तय कर रखी हे। ज्यादा कैश की लेनदेन से आप आयकर विभाग की निगरानी में आ सकते हे।

Source: Google

बड़े कैश लेनदेन की सीमा आयकर विभाग ने तय रखी हे, और खासतौर पर हाई वैल्यू कैश ट्रांजैक्शन (high-value cash transactions) पर निगाह रहती है. कैश ट्रांजेक्शन की तय सीमा को क्रॉस करते ही आप आयकर विभाग की निगरानी में आ जाते है।

यह भी पढ़ें-  Best Rupay debit card in India 2022 – रुपे डेबिट कार्ड के प्रकार

कैश ट्रांजेक्शन कितनी है सीमा

एक वित्तीय वर्ष में बचत बैंक (Saving Account) खाते से 10 लाख रूपिए से अधिक का लेनदेन होता है तो आप आयकर विभाग के निगरानी में आते हे और अगर चालू खाते (Current Account) से 50 लाख रूपए से अधिक का कैश ट्रांजेक्शन होता है तो आप आयकर विभाग की नजरों में आ जाते हैं.

आयकर विभाग से क्यों मिलता है नोटिस

कैश ट्रांजेक्शन की सीमा पार होते ही आयकर विभाग के निगरानी में आ जाते है, इसके बाद आयकर विभाग आपको नोटिस दे सकता है। इससे बचने का तरीका यह है कि आपको आयकर विभाग को सूचना देनी चाहिए. अगर आप पहले ही इनकम टैक्स फॉर्म में इसका जिक्र कर देंगे तो परेशानी से बच जाएंगे.

कब आ जाएगा नोटिस

1- म्यूचुअल फंड, स्टॉक, बॉन्ड में निवेश से संबंधित नकद लेनदेन की सीमा एक वित्तीय वर्ष में 10 लाख रुपये से अधिक नहीं होनी चाहिए.

2-एक वित्तीय वर्ष में विदेशी मुद्रा की बिक्री से 10 लाख रुपये या उससे अधिक नहीं होनी चाहिए.

3- 30 लाख से अधिक की अचल संपत्ति की बिक्री या खरीद नहीं होना चाहिए.

4- फिक्स डिपॉजिट अकाउंट (Fixed Deposits) 10 लाख की सीमा के पार नहीं जाना चाहिए.

5 – क्रेडिट कार्ड बिल की पेमेंट 1 लाख से अधिक नहीं होनी चाहिए. वित्त वर्ष में 10 लाख का ट्राजैक्शन नहीं हो.

- Advertisement -

- Advertisement -