Sunday, May 29, 2022
HomeUncategorizedInternational labor organization रिपोर्ट के अनुसार, कोरोनोवायरस ने असंगठित क्षेत्र में काम...

International labor organization रिपोर्ट के अनुसार, कोरोनोवायरस ने असंगठित क्षेत्र में काम करने वाले लाखों लोगों को प्रभावित किया

25 मार्च से 14 अप्रैल तक 21 दिन के लॉकडाउन में अनुमानित 8 बिलियन में एक दिन में 168 बिलियन खर्च करने का अनुमान है। यदि लॉकडाउन 30 दिनों तक रहता है, तो क्षति 24 240 बिलियन आंकी गई है। हालांकि, लॉकडाउन से कीमती मानव जीवन को बचाने का प्रयास अरबों डॉलर के नुकसान से परे है।
कोरोनावायरस संकट और इससे निपटने के लिए लॉकडाउन से भारत में असंगठित क्षेत्र में काम करने वाले 400 मिलियन लोगों को प्रभावित करने की उम्मीद है। इससे उनकी नौकरी और कमाई प्रभावित होने की संभावना है और वे गरीबी के दुष्चक्र में पड़ सकते हैं। अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन ने एक रिपोर्ट में कहा।
 
भारत में महामारी पर अंकुश लगाने के लिए 25 मार्च से 14 अप्रैल तक 21 दिनों के राष्ट्रव्यापी बंद का ऐलान किया गया है। अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन (ILO) के अनुसार, भारत स्थिति से निपटने के लिए सबसे कम तैयार देशों में से एक है। जिनेवा में जारी ILO रिपोर्ट के अनुसार, कोरोनोवायरस ने असंगठित क्षेत्र में काम करने वाले लाखों लोगों को प्रभावित किया है। भारत, नाइजीरिया और ब्राजील में तालाबंदी से असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों पर बड़ा प्रभाव पड़ा है।

रिपोर्ट के अनुसार, भारत में लगभग 90 प्रतिशत लोग असंगठित क्षेत्र में काम करते हैं। लगभग 400 मिलियन श्रमिकों के रोजगार और कमाई प्रभावित होने की उम्मीद है। इससे उन्हें गरीबी के दुष्चक्र में फंसने की संभावना है। रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत में मौजूदा तालाबंदी का इन श्रमिकों पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ा है। बंद ने उनमें से कई को अपने गांवों में लौटने के लिए मजबूर किया है।

इंटरनेशनल लेबर ऑर्गनाइजेशन (ILO) का कहना है कि महामारी ने वैश्विक स्तर पर काम के घंटे और कमाई को प्रभावित किया है। रिपोर्ट सबसे प्रभावित क्षेत्रों की रूपरेखा तैयार करती है और संकट से उबरने के लिए नीतिगत उपाय सुझाती है।

अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन (ILO) के अनुसार, संकट अप्रैल-जून 2020 की दूसरी तिमाही में 6.7 प्रतिशत काम के घंटों के अंत में होने की उम्मीद है। कोरोना महामारी से अकेले दूसरी तिमाही में 19.5 मिलियन पूर्णकालिक नौकरियों में कटौती की उम्मीद है ।

अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन (ILO) के अनुसार, संकट अप्रैल-जून 2020 की दूसरी तिमाही में 6.7 प्रतिशत काम के घंटों के अंत में होने की उम्मीद है। कोरोना महामारी से अकेले दूसरी तिमाही में 19.5 मिलियन पूर्णकालिक नौकरियों में कटौती की उम्मीद है

25 मार्च से 14 अप्रैल तक 21 दिन के लॉकडाउन में अनुमानित 8 बिलियन में एक दिन में 168 बिलियन की लागत आई है। यदि लॉकडाउन 30 दिनों तक रहता है, तो क्षति 24 240 बिलियन आंकी गई है। हालांकि, लॉकडाउन से कीमती मानव जीवन को बचाने का प्रयास अरबों डॉलर के नुकसान से परे है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular