Wednesday, May 18, 2022
HomeCORONAकोरोना वायरस से एक और नया खतरा, आयरलैंड में डॉक्टरों ने कोरोना...

कोरोना वायरस से एक और नया खतरा, आयरलैंड में डॉक्टरों ने कोरोना वायरस से संक्रमित 83 रोगियों का अध्ययन किया

ऐसा ही एक रहस्यपूर्ण हत्यारा दुनिया भर में लौट रहा है। शरीर के अंदर एक हमला जो आपको जानता है, और आप इस अज्ञात शत्रु को भी नहीं जानते हैं कि आप शिकार कर रहे हैं।

आयरलैंड के डबलिन में सेंट जेम्स अस्पताल के डॉक्टरों ने कोरोनोवायरस से संक्रमित 83 मरीजों का अध्ययन किया। यह महसूस किया गया कि कोरोनावायरस का एक और नया खतरा है। वायरस फेफड़ों के अंदर 100 छोटे ब्लॉकेज का कारण बनता है जिससे कि ऑक्सीजन का स्तर कम होने पर मरीज की मृत्यु हो जाती है

कोरोना पर अनुसंधान दुनिया भर के देशों में चल रहा है। ब्रिटिश जर्नल ऑफ हेमटोलॉजी द्वारा आयोजित किया गया था, 83 गंभीर रूप से बीमार 81 प्रतिशत यूरोपीय, 12 प्रतिशत एशियाई, 6 प्रतिशत अफ्रीकी और 1 प्रतिशत स्पेनिश में हैं। इन सभी रोगियों की औसत आयु 64 वर्ष है। इतना ही नहीं, बल्कि 80% मरीज पहले से ही इन बीमारियों से पीड़ित हैं, 60 प्रतिशत ठीक हो चुके हैं और 15.7 प्रतिशत लोग मर चुके हैं 
उच्च D dimer डी डिमर होने का क्या मतलब है?
वैज्ञानिकों ने यह भी शोध किया कि कोरोना के रोगियों में रक्त के थक्के कितनी जल्दी होते हैं, जिसमें डी-डिमर ने डी-डिमर प्रोटीन नामक प्रोटीन की जाँच की। डी-डिमर प्रोटीन एक ऐसा प्रोटीन है। शरीर में जितना अधिक होता है, रक्त के थक्कों का खतरा उतना अधिक होता है। कोरोना वाले रोगियों में रक्त की यह मात्रा अधिक होती है। इस रक्त में छोटे कणों की संख्या भी अधिक पाई गई। ऐसे मरीज आईसीयू में सीधे इलाज कराने को मजबूर होते हैं।
 

उच्च जोखिम वाले रोगियों में विशेष मात्रा में रक्त भी पाया गया, जिसमें निमोनिया निमोनिया भी शामिल है, फेफड़ों को भी प्रभावित करता है। लेकिन कोरोना में संक्रमण का खतरा अन्य बीमारियों में नहीं पाया गया। वर्तमान में सभी वैज्ञानिक और डॉक्टर यह पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं कि ये छोटे रक्त कण कैसे जमते हैं?

 
अमेरिकी विशेषज्ञों के शोध में सबसे चौंकाने वाला खुलासा हुआ है कि कोरोना पीड़ितों की मौत की संख्या में रक्त के थक्के जमने का कारण सामने आया है। इतना ही नहीं, ये लक्षण अस्पताल से डिस्चार्ज होने वाले मरीजों में भी देखे जाते हैं। इस तरह के रक्त के थक्के से दिल के दौरे और स्ट्रोक हो सकते हैं।
हालांकि, सबसे बड़े अध्ययन में यह भी पाया गया कि आनुवंशिक भिन्नता के कारण चीनी लोगों में रक्त के थक्के जमने के बहुत कम मामले थे। इसी कारण से, चीन की तुलना में यूरोप और संयुक्त राज्य अमेरिका में कोरोना मामलों की संख्या सबसे अधिक है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular