Wednesday, May 25, 2022
HomeCORONAवैक्सीन कुछ हफ्तों में तैयार हो सकता है, पीएम मोदी सर्वदलीय बैठक...

वैक्सीन कुछ हफ्तों में तैयार हो सकता है, पीएम मोदी सर्वदलीय बैठक में कहते हैं

पीएम मोदी ने सर्वदलीय बैठक बुलाकर घोषणा की है, कि वैक्सीन तैयार हो सकती है कुछ ही हफ्तों में, भारत को जल्द ही वैक्सीन मिल जाएगी।

 

वर्तमान में, देश में कुल 8 टीकों का परीक्षण किया जा रहा है और उनमें से 3 टीके स्वदेशी हैं। पीएम मोदी ने पुणे, अहमदाबाद और हैदराबाद की कंपनियों में जाने के बाद यह दावा पहली बार किया है। पीएम मोदी ने आश्वासन देते हुए कहा कि दुनिया की नजर अब भारत पर है।

 

Source : ANI

भारत को अभी भी टीका लगवाने के लिए कुछ समय है। ब्रिटेन पहला कोरोना वैक्सीन विकसित करने वाला दुनिया का पहला देश बन गया और जल्द ही अपने नागरिकों का टीकाकरण करेगा

एक बार जब भारत को वैक्सीन मिल जाती है, तब तक इसे बनाए रखना बहुत मुश्किल होता है, जब तक कि इसका टीकाकरण न हो जाए। बड़ा सवाल यह है कि मोदी सरकार इस टीका को आम लोगों तक कैसे पहुंचाएगी

यह टीका थोड़े समय में भारत को उपलब्ध होगा लेकिन मोदी सरकार ने पानी से पहले ही गाँठ बाँध ली है और पहले से ही टीका के वितरण की तैयारी शुरू कर दी है ताकि यह कोरोना वैक्सीन आसानी से देश के सभी नागरिकों तक पहुँच सके। उन्होंने एक सर्वदलीय बैठक बुलाई और कोरोना वैक्सीन की तैयारी के बारे में देश के 12 से अधिक राजनीतिक दलों के साथ चर्चा की।

 

watch the Uncut video here

 

मोदी सरकार ने पहले यह स्पष्ट किया था कि वैक्सीन के आने के बाद, फ्रंट लाइन योद्धाओं, बुजुर्गों और गंभीर रूप से बीमार लोगों को पहले कोरोना के खिलाफ टीका लगाया जाएगा। टीकाकरण के लिए एक रणनीति तैयार की जाएगी। जिसके तहत विभिन्न स्तरों के अनुसार लोगों को कोरोना वैक्सीन दी जाएगी।

 

मोदी सरकार ने कोरोना वैक्सीन के लिए ‘को-विद’ नामक एक सॉफ्टवेयर बनाया है। जिसके माध्यम से आम जनता भी कोरोना वैक्सीन की मात्रा और उससे जुड़ी जानकारी आसानी से जान सकेगी।

 

देश के हर हिस्से में वैक्सीन पहुंचाने के लिए कोल्ड चेन को मजबूत किया जाएगा। कोल्ड चेन को मजबूत करने के लिए केंद्र और राज्य सरकारों के साथ काम कर रहा है। केंद्र और राज्य सरकार भी टीकों के वितरण के लिए मिलकर काम कर रहे हैं।

 

पहले यहां समझें, टीका आपके पास कैसे पहुंचेगा

भारत में दुनिया में सबसे अच्छी वैक्सीन वितरण प्रणाली है। वैक्सीन के वितरण के प्रबंधन के लिए विशेषज्ञों का एक समूह बनाया जाएगा। यह केंद्र-राज्य सरकार के कर्मचारियों और विशेषज्ञों का एक समूह होगा। समूह सामूहिक रूप से कोरोना वैक्सीन के वितरण पर फैसला करेगा।

 

दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र के रूप में, चुनाव के दौरान मतदान केंद्र स्थापित किए जाते हैं। इसी तरह, टीकों के लिए बूथ स्थापित करने की योजना है।

 

पोलिंग बूथ की तरह ही टीम बनाई जाएगी। ब्लॉक स्तर पर रणनीति बनाई जाएगी। इस अभियान के लिए सरकारी और निजी डॉक्टरों को विशेष जिम्मेदारी दी जाएगी। साथ ही उन्हें जनभागीदारी के प्रयास के साथ आवश्यक प्रशिक्षण भी दिया जाएगा।


टीकाकरण को लेकर लोगों में तरह-तरह की अफवाहें फैल रही हैं। इसीलिए सरकार ने राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को इस दिशा में जागरूकता अभियान चलाने के लिए कहा है।

 

इसके अलावा, राज्यों को वैक्सीन के किसी भी दुष्प्रभाव से लड़ने के लिए तैयार रहने के लिए भी कहा गया है। राज्यों को यह भी निर्देश दिया गया है कि वे एलर्जी की स्थिति से निपटने के लिए चिकित्सा प्रणाली को मजबूत रखें।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular