Wednesday, May 25, 2022
HomeINDIAअरुणाचल प्रदेश में भारतीय सीमा में घुसपैठ करके पूरे गाँव को बसा...

अरुणाचल प्रदेश में भारतीय सीमा में घुसपैठ करके पूरे गाँव को बसा दिया | तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल

चीन ने अरुणाचल प्रदेश में भारतीय सीमा में घुसपैठ करके पूरे गाँव को बसा दिया है। और इस गाँव की तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं।
इस तस्वीर में घर भारतीय सीमा पर अरुणाचल प्रदेश का एक गाँव भी है और इन घरों में चीन का निवास है। भारत के अरुणाचल प्रदेश के 4.5 किमी के भीतर चीनी-बसे हुए गाँव की सैटेलाइट तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं।

Photo Credit: Twitter / @detresfa_

जहां 2019 में कुछ भी नहीं था, पूरा गांव नवंबर 2020 में बसा था, एक चीनी गांव भी। गाँव अरुणाचल प्रदेश में वास्तविक नियंत्रण रेखा से लगभग 4.5 किमी दूर है। यह अरुणाचल प्रदेश के ऊपरी सुबनसिरी जिले के त्सारी चू गांव के अंदर स्थित है।
यह चीनी गांव भारत की सुरक्षा और संप्रभुता के लिए बहुत बड़ा खतरा है। ऊपरी सुबनसिरी जिला लंबे समय से भारत और चीन के बीच विवाद का केंद्र रहा है। इस पर सशस्त्र बलों के बीच हिंसक झड़पें भी हुई हैं।
Photo Credit: Twitter / @detresfa_

कुछ उपग्रह चित्रों में, चीन की यह साजिश सामने आई है। कुछ सुरक्षा विशेषज्ञों ने भी माना है कि वहाँ एक चीनी गाँव है। चीन ने ऐसे समय में गाँव बसाया है जब लद्दाख में भारतीय और चीनी सेना के बीच तनाव बढ़ रहा है। यह अरुणाचल प्रदेश के ऊपरी सुबनसिरी जिले में स्थित है।
चीनी बसे गांव में चौड़ी सड़कें और ऊंची-ऊंची इमारतें हैं। इसमें लगभग 101 घर दिखाई दे रहे हैं। इन घरों में चीनी लोगों का निवास है। और घरों पर चीनी झंडे भी फहराए जाते हैं। सैटेलाइट छवियों से पता चलता है कि चीन ने भारत में त्सारी चू नदी के किनारे बसे गांव को बसाया है।
चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग की कूटनीति द्वारा ड्रैगन के एक नए कदम का विरोध किया जा रहा है। अपनी कुटिल नीति के तहत, वे अन्य देशों की सीमाओं में घुसपैठ करके 600 गांवों को बसाना चाहते हैं। 2017 में डोकलाम में भारतीय सेना की हार के बाद, चीन के राष्ट्रपति ने तिब्बत में एक सीमा रक्षा गांव का निर्माण शुरू किया। इसका मुख्य उद्देश्य तिब्बत में दलाई लामा के प्रभुत्व को समाप्त करना है। रक्षा विशेषज्ञों का कहना है कि भारत को चीन के साथ प्रतिस्पर्धा करने के लिए बुनियादी ढांचे को विकसित करने की आवश्यकता है।
भारत सरकार ने कहा है कि वह चीन की हर हरकत पर पैनी नजर रखे हुए है। अरुणाचल के भाजपा सांसद का कहना है कि जिस भूमि पर चीन ने गाँव बसाए हैं उस पर 1931 से चीन का कब्ज़ा है लेकिन कांग्रेस सरकार ने इतने सालों में उस पर कोई कार्रवाई नहीं की।
भारतीय रक्षा सूत्रों का कहना है कि अरुणाचल प्रदेश के इस क्षेत्र पर 1959 से चीन का कब्जा है। चीनी सेना ने कुछ साल पहले यहां एक सैन्य चौकी भी स्थापित की थी।
डोकलाम के बाद से चीन ने इस क्षेत्र में अपनी गतिविधियां बढ़ाई हैं। चीन ने 1959 में असम राइफल्स को हटाकर इस क्षेत्र पर कब्जा कर लिया।
1962 की लड़ाई के बाद, चीनी सेना पीछे हट गई, लेकिन अक्साई चिन और अरुणाचल प्रदेश में अभी भी चीनी पैरों के निशान हैं। 1990 में, चीन ने क्षेत्र में सड़कों का जाल बिछाया।
भारत ने चीन के इसी हिमस्खलन का जवाब देने और अपनी भूमि की भूख से लड़ने के लिए अरुणाचल प्रदेश, लद्दाख आदि जैसे सीमावर्ती क्षेत्रों में सड़कों और बुनियादी ढांचे का विकास शुरू कर दिया है। लेकिन चाहे वो डोकलाम हो, लद्दाख, या अरुणाचल प्रदेश। भारत के खिलाफ बार-बार झटके लगने के बावजूद चीन अपनी चाल से ऊपर नहीं उठता।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular