मोदी सरकार के यूटर्न पर पी चिदंबरम का कटाक्ष: लगता है चोर ने राफेल के दस्तावेज लौटा दिए

0
80

(Rafale deal) को लेकर जारी घमासान के बाच एक नया ट्विस्ट आया है और मोदी सरकार ने अब कहा है कि राफेल के दस्तावेज चोरी नहीं हुए हैं, बल्कि उसकी फोटोकॉपी की गई है. राफेल सौदे से जुड़े दस्तावेजों की चोरी के संदर्भ में अटॉर्नी जनरल के के वेणुगोपाल के ताजा दावे को लेकर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने शनिवार को सरकार पर निशाना साधा और तंज कसते हुए कहा कि लगता है कि चोर ने दस्तावेज लौटा दिए. 
कांग्रेस नेता पी चिदंबरम ने ट्वीट किया, ”सरकार ने बुधवार को कहा कि दस्तावेज चोरी हो गए. शुक्रवार को कहा कि दस्तावेजों की फोटोकॉपी चोरी हुई है. मुझे लगता कि बीच में बृहस्पतिवार को चोर ने दस्तावेज लौटा दिए.”    उन्होंने तंज कसते हुए कहा, ‘‘मैं सरकार की समझ को सलाम करता हूं.’

पी चिंदबरम ने हिंदी में तीन लगातार ट्लीट किये. उन्होंने लिखा- खुशी है कि CII ने आवाज़ उठाई और रोजगार पर सरकार के झूठे दावों का पर्दाफाश किया. उम्मीद है बाकी भी बोलेंगे. ज्यादा बुरा क्या है? रोजगार के अवसर नहीं पैदा करना या इसके बारे में झूठ बोलना. एनडीए सरकार दोनों की दोषी है. चुनाव के तीन महत्वपूर्ण मुद्दे होंगे- नौकरी, नौकरी और नौकरी

दरअसल, अटॉर्नी जनरल के के वेणुगोपाल ने शुक्रवार को दावा किया था कि राफेल से संबंधित दस्तावेज रक्षा मंत्रालय से चोरी नहीं हुए हैं और उच्चतम न्यायालय में दाखिल किए अपने जवाब में उनका मतलब था कि याचिकाकर्ताओं ने ‘वास्तविक कागजातों की प्रति’ का इस्तेमाल किया

इससे पहले वेणुगोपाल ने बुधवार को उच्चतम न्यायालय को बताया था कि राफेल विमान सौदे से संबंधित दस्तावेज रक्षा मंत्रालय से चोरी किये गये हैं और याचिकाकर्ता इन दस्तावेजों के आधार पर विमानों की खरीद के खिलाफ याचिकायें रद्द करने के फैसले पर पुनर्विचार चाहते हैं. नौकरियों से जुड़े मुद्दे पर सरकार को घेरते हुए पूर्व वित्त मंत्री चिदंबरम ने यह भी कहा कि आगामी लोकसभा चुनाव में सिर्फ तीन बड़े मुद्दे होंगे-‘रोजगार, रोजगार और रोजगार.’

LEAVE A REPLY