PUBG ने बैन किए 30,000 अकाउंट्स, ऐसे बैन होने से बचें

0
73

PUBG में नया मैप Vikendi आ चुका है और लोग इसे पसंद कर रहे हैं. लेकिन इसी बीच एक रिपोर्ट आ रही है कि कंपनी ने लगभग 30,000 अकाउंट्स बैन कर दिए हैं. चीटिंग करने की वजह से बैन किए गए अकाउंट्स में 16 प्रो प्लेयर हैं.

कंपनी के मुताबिक सिर्फ हैकिंग और चीटिंग की वजह से अकाउंट्स बैन नहीं होते, बल्कि  इसके और भी कई वजहे हैं. इनमें ऐसे सॉफ्टवेयर का यूज करना जो गेमिंग सर्विस को बायपास करते हैं, ऐसे प्रोग्राम जो गेमिंग को ऑल्टर करते हैं या फिर दूसरे प्लेयर पर नजर रखने वाले सॉफ्टवेयर यूज करने से भी आप बैन हो सकते हैं. कंपनी बैन अकाउंट पर सटीक जानकारी नहीं देती, इसके लिए सिक्योरिटी का हवाला दिया जाता है.

कंपनी ने साफ कहा है कि नियम उल्लंघन करने वाले अकाउंट को एक बार  Permanent बैन कर दिया गया तो उसे दूबारा ठीक नहीं किया जा सकता है. Temporary बैन किए गए अकाउंट्स 1 से 5 दिन में फिर से अनबैन कर दिए जाते हैं.

क्यों हुए अकाउंट बैन

रिपोर्ट्स के मुताबिक इन अकाउंट्स से यूजर्स थर्ड पार्टी प्रोग्राम रेडार हैक चीट यूज कर रहे थे. इससे प्लेयर को दूसरे प्लेयर की लोकेशन पता चल जाती थी कि दुश्मन कहां है. इसके लिए प्लेयर दो स्क्रीन यूज करते थे ताकि उसमें दूसरे प्लेयर दिखाई दें. जाहिर है ये कंपनी के लिए और रेवेन्यू के लिए खतरनाक है और इसलिए ही इन अकाउंट्स को बैन कर दिया गया.

अगर आप बैन नहीं होना चाहते हैं तो इसे फॉलो करें

आम तौर पर प्रो यूजर्स गेमिंग का लेवल कम करने के लिए वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क यानी VPN यूज करते हैं. ताकि इससे वो डिफॉल्ट कंट्री लोकेशन बदलकर जीतने के चांस बढ़ा सकें और इससे जाहिर है रॉयलटी प्वॉइंट्स भी बढ़ेंगी. आप इस गेम के लिए VPN यूज न करें.

गेम में एंटर करके बार बार गेम क्विट करना

Vikendi मैप के साथ कंपनी ने एक नियम भी लाया है. अगर आप लागातार मैच में एंटर हो कर क्विट करते हैं तो आपके अकाउंट कुछ घंटों के लिए ब्लॉक कर दिया जाएगा.

गेम में कोई ग्लिच या बग दिखे तो कंपनी को रिपोर्ट करें. कई बार इस गेम में ग्लिच नोटिस करेंगे. इससे खेल प्रभावित होता है. इस चक्कर में कोई इम्यून हो जाता है तो कोई एक शॉट में किल मिलते हैं. इसी तरह के कई ग्लिच आप आप नोटिस करेंते. इसे पबजी को रिपोर्ट कर दें, क्योंकि अगर ऐसा लगातार होता रहा तो कंपनी आपका अकाउंट बैन कर सकती है.

LEAVE A REPLY