क्या बॉटल में बेचीं जाएगी शुद्ध हवा, शुद्ध हवा अब ऑनलाइन खरीदी जा सकती है।

Newsvishesh
By Newsvishesh 36 Views

सभी जानते हैं कि बढ़ते प्रदूषण के बीच भविष्य में स्वच्छ हवा मिलना मुश्किल हो सकता है, लेकिन अगर आप घर में स्वच्छ हवा लेना चाहते हैं और वह भी हिमालय की हवा(Pure Himalayan Air Canned Pure Air)। तो अब आप शुद्ध हवा भी ऑनलाइन खरीद सकते हैं। सुनने में जरूर अजीब लग रहा होगा लेकिन यह सच है। अब तो हवा भी ऑनलाइन बिक रही है। देश-विदेश की कुछ कंपनियां अब शुद्ध हवा को बोतलबंद कर ग्राहकों के घरों तक पहुंचा रही हैं।

प्योर हिमालयन नाम की एक भारतीय कंपनी का दावा है कि उपभोक्ताओं को 550 रुपए में शुद्ध हवा(Pure Himalayan Air Canned Pure Air) की 10 लीटर की बोतल पहुंचाई जा रही है। कंपनी हिमालय के प्राकृतिक वातावरण से ताजी हवा देने का दावा कर रही है। सांस लेने के लिए बोतल के साथ मास्क भी दिया जाएगा। कंपनी का मानना ​​है कि उत्तराखंड के चमोली में बोतलों में हवा को कंप्रेस कर बोतलबंद किया जा रहा है.

कंपनी का दावा है कि एयर बॉटल के साथ दिया गया मास्क सेकंड में एक बार सांस ले सकता है। इसी तरह कंप्रेस्ड बोतल से 160 बार सांस ली जा सकती है.. शुद्ध हवा की एक सांस की कीमत 12 रुपये होगी.

कंपनी का कहना है कि शुद्ध हवा में ऑक्सीजन, नाइट्रोजन और अन्य प्राकृतिक तत्व होते हैं। इससे शरीर को अधिक शक्ति और जीवन शक्ति मिलती है। विदेशी कंपनियां भारत में हवा बेच रही हैं। ऑस्ट्रेलिया और कनाडा की कंपनियों ने भारत में बोतलबंद शुद्ध हवा बेचने का कारोबार शुरू किया है।

ऑस्ट्रेलियाई कंपनी ओजैर दो साइज की बोतलों में हवा बेच रही है। 7.5 लीटर फ्रेश एयर बोतल की कीमत 1499 रुपए है। जबकि 15 लीटर फ्रेश एयर बोतल की कीमत 1999 रुपये है।

हालांकि, अंदरूनी सूत्र इस व्यापार पर सवाल उठा रहे हैं। वह कहता है। या यदि कोई 3 मिनट ताजी हवा लेता है और फिर से प्रदूषित वातावरण में रहता है, तो उस 3 मिनट की ताजी हवा से कोई लाभ नहीं होगा।

आपको बता दें कि विदेशों में शुद्ध हवा का यह व्यापार खूब चल रहा है. चीन से लेकर कुछ पश्चिमी देशों तक स्वच्छ हवा की मांग इतनी ज्यादा है कि ऑनलाइन ऑर्डर पर आप दक्षिण प्रशांत महासागर से लेकर कनाडा और अलास्का के पहाड़ों तक की स्वच्छ हवा का भी लाभ उठा सकते हैं।

दुनिया में कितना वायु प्रदूषण बढ़ रहा है। इसका अंदाजा एक रिपोर्ट से लगाया जा सकता है जिसमें कहा गया है कि दुनिया की करीब 95 फीसदी आबादी प्रदूषित हवा में सांस लेने को मजबूर है. ऐसे में अगर भारत में भी बढ़ते प्रदूषण के बीच स्वच्छ हवा का यह व्यापार रफ्तार पकड़ ले तो आश्चर्य नहीं होगा।

Share This Article
Leave a comment