HomeINDIAरक्षाबंधन का शुभ मुहूर्त 2022 | Raksha Bandhan Shubh...

रक्षाबंधन का शुभ मुहूर्त 2022 | Raksha Bandhan Shubh Muhurat Time 2022

Raksha Bandhan Shubh Muhurat Time: रक्षाबंधन का यह त्योहार भाई बहन के पवित्र रिश्ते और प्यार का प्रतीक है। हर साल सावन माह की पूर्णिमा को भद्राकाल में रक्षाबंधन का त्योहार मनाया जाता है। इस पर्व पर भाईयो की कलाई पर बहने राखी बांधती है और आरती उतारती है और भगवान से भाई के लिए सुख-समृद्धि और लंबी आयु की प्रार्थना करती है। आईए जानते हे Raksha Bandhan Shubh Muhurat Time 2022 के बारे में…

इस साल रक्षाबंधन की तिथि को लेकर असमंजस की स्थिति बनी हुई है। इस साल 11 और 12 अगस्त को रक्षाबंधन का त्योहार हे. सावन पूर्णिमा तिथि दो दिन है और 11 अगस्त, गुरुवार को भद्रा का साया भी रहने वाला होगा जिसकी वजह से लोगों के मन में भ्रम है कि रक्षाबंधन का पर्व 11 या 12 अगस्त को मनाया जाए। 

रक्षाबंधन का शुभ मुहूर्त ( 11 अगस्त 2022) Raksha Bandhan 2022

हिंदू पंचांग के अनुसार इस वर्ष श्रावण माह की शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि 11 अगस्त को सुबह 10 बजकर 38 मिनट से शुरू हो जाएगी। 12 अगस्त, शुक्रवार को सुबह 7 बजकर 5 मिनट पूर्णिमा तिथि का समापन होगा. ज्योतिषचार्यों के अनुसार रक्षाबंधन का त्योहार 11 अगस्त को मनाया जाएगा।

इस बार रक्षाबंधन के पर्व पर भद्रा का साया रहेगा। 11 अगस्त को राखी अभिजीत मुहूर्त में बांधी जा सकती है। मुहूर्त के मुताबिक 11 अगस्त पर सुबह 11 बजकर 37 मिनट से 12 बजकर 29 मिनट तक अभिजीत मुहूर्त रहेगा। अभिजीत मुहूर्त को दिन के सभी मुहूर्तों में सबसे अच्छा और शुभ मुहूर्त माना गया है। इसके अलावा 11 अगस्त,गुरुवार को दोपहर 02 बजकर 14 मिनट से 03 बजकर 07 मिनट पर विजय मुहूर्त रहेगा। इस तरह से भद्राकाल के रहते इस समय राखी बांधी जा सकती है।

रक्षाबंधन पर कब से कब तक रहेगा भद्रा का साया (Raksha Bandhan 2022 Bhadra Timing) 

इस बार भद्रा के रहते राखी बांधने के लिए बहनों को कम समय मिलेगा। 11 अगस्त को शाम 5 बजकर 17 से लेकर 06 बजकर 16 मिनट तक भद्रा पुंछ रहेगी। फिर इसके बाद 08 बजे तक भद्रा मुख रहगी। शास्त्रों में भद्रा के समय राखी बांधना शुभ नहीं माना गया है। लेकिन अगर बहुत जररूी हो तो चौघड़िया के समय को ध्यान में रखकर राखी बांध सकते हैं। वैसे कई पंडितों का मानना है कि भद्रा रक्षाबंधन के दिन पाताललोक में निवास करेंगी ऐसे में इसका असर पृथ्वी वासियों के ऊपर नहीं पड़ेगा।

- Advertisement -